November 2018 - News4blog — Learn Everything What you want

Halaman

    Social Items

Hanuman Chalisa भारत के श्रेष्ठ कवि तुलसीदास द्वारा लिखा गया है जहां एक भक्ति भजन है जो महाबली हनुमान को समर्पित है माना जाता है कि 16वीं शताब्दी में महाकवि तुलसीदास जी ने हनुमान चालीसा को अवधी भाषा में लिखा था
hanuman Chalisa in Hindi

हनुमान चालीसा में "चालीसा" शब्द का अर्थ 40 हनुमान चालीसा में 40 छंद नियुक्त हैं और इसमें 2 दोहे हैं

हनुमान चालीसा hanuman Chalisa in Hindi With Lyrics :

श्री हनुमान चालीसा— दोहा 1
श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मन मुकुर सुधारि||
बरनौं रघुबर बिमल जूस जो दायकु फल चारि||1||


श्री हनुमान चालीसा —दोहा 2
बुद्धिहीन तनु जानिकै सुरिरौं पवनकुमार||
बल बुद्ध बिद देहु मोहिं हरहु कलेस बिकार।||2|`|


हनुमान चालीसा चौपाई Hanuman Chalisa Chaupai


जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुं 
लोक उजागर।
रामदूत अतुलित बल धामा।अंजनि-पुत्र 
पवनसुत नामा।
महाबीर बिक्रम बजरंगी। कुमति निवार
 सुमति के संगी।
कंचन बरन बिराज सुबेसा ।कानन कुंडल
 कुंचित केसा।
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै ।कांधे मूंज 
जनेऊ साजै।
संकर सुवन केसरीनंदन। तेज प्रताप 
महा जग बन्दन।
विद्यावान गुनी अति चातुर।राम काज करिबे
 को आतुर।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।राम लखन सीता 
मन बसिया।
सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।बिकट रूप 
धरि लंक जरावा।
भीम रूप धरि असुर संहारे।रामचंद्र 
के काज संवारे।
लाय सजीवन लखन जियाये।श्रीरघुबीर
 हरषि उर लाये।।
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।तुम मम प्रिय
 भरतहि सम भाई।
सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।अस कहि
 श्रीपति कंठ लगावैं।
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।नारद सारद
 सहित अहीसा।
जम कुबेर दिगपाल जहां ते।कबि कोबिद 
कहि सके कहां ते।
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।राम मिलाय 
राज पद दीन्हा।
तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।लंकेस्वर भए सब जग जाना।
जुग सहस्र जोजन पर भानू।लील्यो ताहि 
मधुर फल जानू।
प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।जलधि लांघि गये
 अचरज नाहीं।
दुर्गम काज जगत के जेते।सुगम अनुग्रह 
तुम्हरे तेते।
राम दुआरे तुम रखवारेहोत न आज्ञा 
बिनु पैसारे।
सब सुख लहै तुम्हारी सरना।तुम रक्षक 
काहू को डर ना।
आपन तेज सम्हारो आपैतीनों लोक हांक
 तें कांपै।
भूत पिसाच निकट नहिं आवै।महाबीर जब 
नाम सुनावै।
नासै रोग हरै सब पीरा।जपत निरंतर
 हनुमत बीरा।
संकट तें हनुमान छुड़ावै।मन क्रम बचन
 ध्यान जो लावै।
सब पर राम तपस्वी राजा।तिन के काज
 सकल तुम साजा।
और मनोरथ जो कोई लावै।सोइ अमित जीवन
 फल पावै।
चारों जुग परताप तुम्हारा।है परसिद्ध जगत 
उजियारा।
साधु-संत के तुम रखवारे।असुर निकंदन 
राम दुलारे।
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।अस बर दीन
 जानकी माता।
राम रसायन तुम्हरे पासा।सदा रहो रघुपति
 के दासा।
तुम्हरे भजन राम को पावै।जनम-जनम
 के दुख बिसरावै।
अन्तकाल रघुबर पुर जाई।जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।
और देवता चित्त न धरई।हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।
संकट कटै मिटै सब पीरा।जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।
जै जै जै हनुमान गोसाईं।कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।
जो सत बार पाठ कर कोई।छूटहि बंदि महा सुख होई।
जो यह पढ़ै हनुमान चालीसाहोय सिद्धि साखी गौरीसा।
तुलसीदास सदा हरि चेरा।कीजै नाथ हृदय मंह डेरा। 

श्री हनुमान चालीसा —दोहा 3

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप। 
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।


क्या आपको पता है हनुमान चालीसा का पाठ करने से शारीरिक और मानसिक समस्याओं का निदान होता है—
हनुमान चालीसा – hanuman Chalisa in Hindi का पाठ करना सभी के लिए बहुत लाभदायक होता है हनुमान चालीसा का पाठ करने से आपकी शारीरिक और मानसिक समस्याएं खत्म होती है इसका जाप करने से हमारे शरीर बहुत प्रभावशाली बनता  है|

हनुमान चालीसा – hanuman Chalisa in Hindi

Tense chart in Hindi With Example—


Hello Friends News4Blog.com मैं आपका बहुत बहुत स्वागत है आज हम जिस चीज के बारे मैं बात करने वाले हैं वह है Tense chart in Hindi 


आज की इस पोस्ट में हम आपको Tense Chart in Hindi के बारे में और साथ-साथ Tense Tips and Tricks बारे में भी बताएंगे जिससेे आपकी Tense मै पकड़ मजबूत बन जाएगी जिससे आप किसी भी हिंदी शब्द को आसानी से English में translate कर सकते हैं

देखा जाए आज की इस समय में इंग्लिश बहुत महत्वपूर्ण हो चुकी है और इसका प्रयोग हर जगह होता है जैसा कि आप कभी कहीं ऐसी country में जाते हो जहां इंग्लिश बोलते हैं तो वहां आप बिना English के आप इंग्लिश नहीं बोल सकते और अगर कभी आप इंटरव्यू के लिए भी जाते हो तो इंटरव्यू में ज्यादातर इंग्लिश में ही प्रश्न पूछे जाते हैं तो वहां पर भी आप को शर्मिंदा होना पड़ेगा

क्योंकि हम हिंदुस्तान से हैं तो हमें ज्यादा हिंदी ही बोलनी पड़ती है जिससे हम हिंदी के ही आदी हो चुके हैं क्योंकि हम हिंदी को बचपन से बोलते और सुनते आ रहे हैं|

बहुत से ऐसे व्यक्ति होते हैं जिन्हें इंग्लिश तो समझ आ जाती है लेकिन वह बोलने में हिचकीचाते हैं कि कहीं वह कोई शब्द गलत ना बोल दे और वह शर्म के मारे इंग्लिश नहीं बोल पाते|

इसलिए मैं आपको इस chapter मैं tense के बारे में बताऊंगा जिससे आपकी Basic English grammer मै थोड़ा improvement देखने को मिलेगा|

तो चलिए शुरू करते हैं अपना Tense Chart in Hindi जिससे आपकी इंग्लिश ग्रामर थोड़ा इंप्रूव हो जाएगी|

Tense Chart in Hindi Tricks :

INDEFINITE TENSE

Present Tense - ता है,ती है,ते हैं  (Do,Does)

Past Tense - ता था,ती थे, ते थे (Did)

Future Tense - गा, गी, गे (Will/Shall)
--------------------------------------

CONTINUOUS TENSE

Present Tense - रहा है,रही है,रहे हैं (Is / am /Are)

Past Tense - रहा था,रही थी,रहे थे(was/were)

Future Tense - रहा होगा,रही होगी,रहे होंगे(shall be/will be )
--------------------------------------


PERFECT TENSE

Present Tense - चुका है,चुकी है,चुके हैं (has/have)

Past Tense - चुका था, चुकी थी, चुके थे (Had)

Future Tense - चुका होगा,चुकी होगी,चुके होंगे will have/shall have)
-------------------------------------

PERFECT CONTINUOUS

Present Tense - ता रहा हूँ , ती रही हूँ , ते रहे हैं , ते रहे हो , ती रही हो , ता रहा हैं , ती रही हैं . Has/have+been+V1+ing+since/for+time

Past Tense - ता रहा था , ती रही थी , ते रहे थे Had+been+V1+ing+since/for+time

Future Tense - हुआ रहूँगा, रहा होगा, रहे होंगे

Will/shall+have/has+been+v1ing+since/for+time
-------------------------------------

Tanse chart image 

Tense Chart in Hindi

Present Past Future Tense Example



Present Tense Example—

मैं जाता हूं
I go

क्या वह जाता है
Does he go

क्या वह नहीं जाता है?
Does he not go

वह नहीं जाता है
He doesn't go

क्या मैं जाता हूं?
Do i go?
वह जा रहा है

He is going


Past Tense Example—

मैं गया
I went

मैं नहीं गया
I did not go

क्या वह गया
Did he go

क्या वह नहीं गया?
Did he not go

वह नहीं गया
He did not go

वह जा रहा था
He was going


Future Tense Example—

वह दिल्ली जाएगा
He will go delhi

क्या वह दिल्ली जाएगा
WIll he go delhi

मैं दिल्ली नहीं जाऊंगा
i will not go delhi

वह दिल्ली जा रहा होगा
He will be going delhi

क्या मैं दिल्ली नहीं जा रहा हूंगा
Will i not be going delhi

आशा करता हूं दोस्तों की आपको Tense Chart in Hindi आर्टिकल पसंद आया हूं अगर आप आगे भी ऐसे ही मजेदार आर्टिकल पढ़ना चाहते हो तो आप news4blog.com पर जरूर visit करें क्योंकि हम यहां ऐसे ही intresting artical डालते रहते हैं धन्यवाद

Tense Chart in Hindi with example - best trick and tips to learn tenses

What is solid, solid in hindi, Characteristics Of Solid State, ठोस पदार्थ क्या है solid defination


आज हम यहां ठोस अवस्था के सामान्य लक्षण General Characteristics Of Solid State के बारे में चर्चा करने वााले हैं सबसे पहले जान लेते हैं कि ठोस क्या है|

ठोस पदार्थ क्या है ? (what is solid)

प्रत्येक ठोस अवयवी  कणों से मिलकर बना होता है जिनमें अणु तथा आयन होते हैं 
1.इनके अणु परस्पर निबिड संकुलित असंपीड्य होते हैं
2.ठोस कठोर होते हैं|
3.दोस्तों की अभी-अभी कणों के मध्य रिक्त स्थान बहुत कम होता है 
4.इनका गलनांक भी उच्च होता है द्रव तथा गैस के मुकाबले 
5.इनका का घनत्व उच्च होता है

ठोस अवस्था के सामान्य लक्षण (General Characteristics Of Solid State) -


किसी भी पदार्थ की जो ठोस अवस्था होती है वह द्रव और गैस की अवस्था से अधिक स्थाई होती है|

1. जो intermolecular forces अंतर आणविकबल (परमाणुु तथा आयन) को एक दूसरे के निकट  निकट दूरी तक लाने का प्रयास करते हैं|

2. ठोस पदार्थ असंपीड्य एवं कठोर होते हैं

3. इनके बीच का अंतर आणविक बल प्रबल होता है
4.इनके अवयवी कणों के मध्य दूरी कम होती है
5. इनका द्रव्यमान आयतन आकार एवं आकृति निश्चित होती है

ठोस मुख्यता दो प्रकार के होते हैं क्रिस्टलीय एवं अक्रिस्टलीय ठोस –

1.क्रिस्टलीय ठोस crystalline solid -

1.क्रिस्टलीय ठोस मैं अवयवी कण की एक निश्चित ज्यामिति होती है
2.इनके गलनांक निश्चित होते हैं शीतलन वक्र असतत होता हैं 
3.क्रिस्टलीय ठोस विषम देैशिक प्रकृति के होते हैं उदा- NaCl, KCl, Na2So4, Fe, Au


2.अक्रिस्टलीय ठोस Amorphous solid - 

1.क्रिस्टलीय ठोस मैं अवयवी कण की एक निश्चित ज्यामिति नहीं होती है
2.इनके गलनांक निश्चित नहीं होते हैं शीतलन वक्र सतत होता है
3.क्रिस्टलीय ठोस  समदेैशिक प्रकृति के होते हैं|
exa- O, Si

तो आज हमने इस पोस्ट में जाना कि ठोस solid पदार्थ क्या होते हैं का साथ हमने जाना कि ठोस के कितने प्रकार होते हैं (crystalline and Amorphous solid) अक्रिस्टलीय और क्रिस्टलीय ठोस क्या होते हैं |

ठोस पदार्थ क्या है ? ठोस अवस्था के सामान्य लक्षण तथा प्रकार|

Hello Friends हमारी वेबसाइट News4blog में आपका स्वागत है आज हम बात करने वाले हैं ब्लॉगर में quiz website kaise banaye अगर आप कोई study या फिर कोई quiz site blogger मैं बनाना चाहते हो आज हम इस पोस्ट में यही बताने वाले हैं|
अगर आप अपनी कोई कोई quiz वेबसाइट wordpress मैं बनाओगे तो वहां पर आप बहुत ही आसानी से क्विज वेबसाइट बना सकते हो क्योंकि वहां पर आपको plugins की सुविधा मिल जाती है लेकिन ब्लॉगर में इसी बनाना थोड़ा कठिन होता है अगर आप को Html का पूर्ण ज्ञान है तू आप इसे ब्लॉगर में भी आसानी से बना सकते हो लेकिन Html language हर किसी के बस की बात नहीं तो मैं आज इस पोस्ट में आपको blogger me quiz website बनाना बताऊंगा आशा करता हूं कि आपको यह पोस्ट पसंद आएगी|

अब आप सोच रहे होंगे कि कुछ वेबसाइट बनाने से क्या फायदा होगा तो मैं आपको बता दूं कि अगर आप कोई study से related क्विज वेबसाइट बनाते हो तो उसमें आपको traffic भी ज्यादा मिलेगा क्योंकि इसको आप facebook study group, whatsapp group आदि जगह शेयर कर सकते हो जिससे आपको हंसा निकल ट्रैफिक मिल जाएगा तो चलिए जानते हैं कि ब्लॉगर मे क्विज वेबसाइट कैसे बनाते हैं|

Blogger me Quiz website kaise creat kare

Blogger me quiz creat करने के लिए आपको सबसे पहले quizbox website पर जाना है.
अब यहां पर आपको कुछ information fill करनी है

1. सबसे पहले यहां पर आपको Quiz structure Creat करना है-
# How many questions do you want the quiz to contain? – यहां पर आपको total quetion select करनी है जितने प्रश्न आप अपने quiz में डालना चाहते हो maximum आप 10 प्रश्न select कर सकते हो|
#How many choices per question? यहां पर आपको पूछे गए प्रश्नों के options डालनेे हैं जितना आप डालना चाहते
#What is the title of your quiz? यहां पर अपने quiz का tiTle दीजिए
#After scoring, where do you want us to create a return link to यहां पर अपनी वेबसाइट का लिंक डाल दीजिए या फिर छोड़ दीजिए.
#Click here to Make Your Own Quiz पर click कर दीजिए
Blogger Me Quiz Website Kaise Banaye | Exam paper website kaise banaye

अब आप नहीं पेज पर redirect हो चुके हो

2.यहां पर आपको अपना quiz build करना है -
जहां आपको यहां पर वह सब information भर लेनी है जैसा कि screenshot मैं दिखाया जा रहा है|
Blogger Me Quiz Website Kaise Banaye | Exam paper website kaise banaye

Note– लेकिन Type your question1 here........
की जगह आपको अपना प्रश्न लिखना  है और choice की जगह options देने हैं score की जगह आपको सही उत्तर पर 10 और गलत उत्तर में 00 ही रहने देना|

Next step मैं आपको - Email me the HTML source.  को ही सेलेक्ट करना है| और फिर countinue पर क्लिक करना है.
Blogger Me Quiz Website Kaise Banaye | Exam paper website

Click करते ही आपके सामने ही एक Html code show हो जाएगा जिसे आपको कॉपी कर लेना है कॉपी करने के बाद आपको अपने BLOGGER>>POST>>NEW POST>>HTML मैं जाकर इसी पेस्ट कर लेना है|
Blogger Me Quiz Website Kaise Banaye | Exam paper website kaise banaye

अपने को quiz कोई Title दे दीजिए और फिर publish पर क्लिक कर लीजिए अब आपका optional quetion quiz तैयार हो चुका है अब आप इसे कहीं भी शेयर कर सकते हो|

So hope friends आपको पोस्ट पसंद आई हो और आपको कुछ सीखने को भी मिला हो तो आज की पोस्ट में  में हमने जाना blogger me quiz web site kaise banaye या फिर quiz website kaise banate hai अगर आपको इस पोस्ट से कोई सुझाव देना हो तो आप नीचे कमेंट कर सकते हो.


Blogger Me Quiz Website Kaise Banaye | Exam paper website kaise banaye

HTML learn in Hindi/Basic Tutorial-अगर आप वेब डिज़ाइनर हो या फिर आपने बचपन में computer चलाया है तो आपने HTML भाषा के बारे में जरूर सुना होगा अगर आप एक Web Developer या Web Designer बनना चाहते हो तो आपको Html language आना बहुत जरूरी है या फिर अगर आप एक Teacher ,businessman, Professor हो तो आप उस business की कोई वेबसाइट बना सकते हो आप अपने client , student को रेगुलर अपडेट दे सकते हैं जिसमें आपको Html का सहारा लेना पड़ेगा|
अगर आपको Html भाषा का कोई ज्ञान नहीं है तो आपको किसी वेब डिज़ाइनर के पास जाना पड़ेगा और आपको वेब डिजाइनिंग करने के पैसे देने पड़ेंगे|
आज हम इस पोस्ट में Html web Tutorial in Hindi मै simple web page design करना सीखेंगे जिसके लिए आपको नीचे दिए गए steps को फॉलो करना पड़ेगा|

Html Basic Tutorial In Hindi 

तो चलिए जान लेते हैं html ki basic jankari जिसकी मदद से आप simple web page design कर सकते हो क्योंकि यहां पर हम html की बेसिक जानकारी जान रहे हैं तो सबसे पहले जान लेते हैं कि आखिर Html kya hai (what is html).
Html Kya Hai | HTML की Basic जानकारी

आखिर HTML क्या है - What's Html In Hindi

HTML (Hyper Text Markup Language) जो कि एक कंप्यूटर language होती है जिसका उपयोग हम web page design करने के लिए करते हैं html को सबसे पहले 1990 में Tim burners ने बनाया था जिस समय इंटरनेट की शुरुआत भी हुई थी अब धीरे-धीरे html का बहुत कम यूज होता हैै क्योंकि अब बहुत सारी कंप्यूटर language आ चुकी हैै जिनका उपयोग कर हम अच्छी से अच्छी वेबसाइट बना सकते हैं |

HTML Document Structure /simple web page

अब हम एक simple html page बनाएंगे अब आपको नीचे दिए गए Html Code  को किसी html editor में जाकर past कर लेना है

<html>
<head>
<title>My First HTML Document</title> </head> <body> <h1>This is heading</h1> Hello World!!! </body> </html>



An Writer Free Html Editor "Dowenload"

अब आप html को simple view मै करके देख सकते हो जहां पर आपको कुछ ऐसा दिखाई देगा|

This is heading
 Hello word!!!                   

किसी भी Html page में बहुत सारे tags देखने को मिलते हैं जो tag होते हैं वह web Page के किसी ना किसी एलिमेंट को दिखाते हैं जैसे image paragraph..etc.. और जितने भी tag होते हैं उन सब के opening or closing tags होते हैं जैसे उदाहरण के लिए opening tag <tag_name> or closing tag मैं आपकोsymbol देखने को मिलेगा जैसे </tag_name>.

अब आप ऊपर अपने html section में देख सकते हो html का opening tag <html>or closing tag </html> इसी की तरह head का opening or closing tag <head> or </head> है|


HTML page Sections (html पेज के भाग) 

किसी भी Html page मैं आपको दो सेक्शन देखने को मिलते हैं

1.Head section-  head section में किसी पेज बारे  में जानकारी होती है और इसमें आपको keyword, Description जो गूगल सर्च इंजन में वेबसाइट रैंक करने के काम आता है और फिर आता है web page title. 

2.Body Section- body section मैं आपका वह सब content आता है जिसके बारे में आपने अपनी पोस्ट में लिखा है जैसे text, video, images..
I hope आपको यह पोस्ट पसंद आए हो जिसमे हमने आपको बताया html kya hota hai और साथ-साथ हमने simple web page design करना भी सीखा |
तो अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप नीचे कमेंट कर सकते हो और आपके मन में जो भी सवाल हुआ कमेंट करके पूछ सकते हो]

Html Kya Hai | HTML की Basic जानकारी

Google Adsense Account Approved Kaise Kare in 2018 || Top 10 method
अगर आप किसी website पर work कर रहे हो और आपको Google AdSense का approval नहीं मिल रहा है तो इस Post को ध्यान से पढ़िए क्योंकि इस पोस्ट में आपको बताने वाला हूं की "Google AdSense account approve kaise kare" क्योंकि बहुत सारे ऐसे blogger हैं जिनका Google AdSense account approve नहीं हो पा रहा है जबकि उनकी website पर ट्रैफिक भी ज्यादा होता है फिर भी Google Adsense Approval Reject कर देता है तो इस पोस्ट को पहले से last तक पढ़िए approve kaise kare top 10 tarike.

AdSense Account Approval Kaise Karaye 2018-019 Top 10 tarike

जब भी हम  GooglAdsense के लिए apply करते हैं तो हम easily apply कर देते हैं हमें कुछ ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ती लेकिन Google Adsense अप्रूवल पाना उतना ही मुश्किल है क्योंकि adsense हर किसी को approval नहीं देता अगर आपकी वेबसाइट का Quality or content AdSense policy के खिलाफ है तो वह आपके ऐडसेंस approval reject कर देगा

ज्यादातर देखने में आता है कि asian country में जैसे भारत चीन पाकिस्तान बांग्लादेश श्रीलंका में google adsense approval लेना थोड़ा कठिन हो जाता है कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो adsense approval पाने के लिए Paid traffic या फिर black hat seo का इस्तेमाल करते हैं| जोकि AdSense accept नहीं करता अगर आप लंबे समय तक ब्लॉगिंग करना चाहते हो तो आप ऐसी चीजों का इस्तेमाल करना अभी छोड़ दीजिए नहीं तो कभी ना कभी आपका ऐडसेंस Disapprove हो जाएगा| तो चलिए हम जानते हैं कि google AdSense 

AdSense approve karane के लिए आपको नीचे दिए गए सभी points का ध्यान रखना है अगर आप मेरी हर बात follow करते हो तो आपका AdSense account जरूर approval हो जाएगा|

Top 10 Tarike Adsense approve karane ke :

1st point– जब भी आप कोई नई वेबसाइट बनाते हो तो आपको यह पांच pages बनाना बहुत ही महत्वपूर्ण है

1.Home 

2.About

3.Contact us

4.Privacy policy

5.Des claimer

यह सभी Pages वेबसाइट के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं और इससे यह पता भी चलता है कि आप एक Professional ब्लॉगर हो


2nd point– कभी भी हो दूसरों के content को copy ना करें अगर आप यह सब करोगे तो आपका adsense कभी भी disable हो सकता है और कॉपी पेस्ट करने से कोई भी आर्टिकल कभी भी रैंक नहीं होता|


3rd point– adsense approve karne ke liye content/article की lenght kitni honi chahiye

Google AdSense reject होने का एक महत्वपूर्ण कारण यह भी है कि जब आप article पूरा करते हो तो उसकी lenght 300-400 words मैं complete कर देते हो जिससे adsense हमारी application को reject कर लेता है

क्योंकि अब देखा जाए तो गूगल बहुत ही strick हो चुका है पहले तो google ऐडसेंस हर वेबसाइट को approval दे देता था लेकिन अब ऐसा नहीं है आपको अपने आर्टिकल की लंबाई 700 से 800 वर्ड में लिखनी पड़ेगी तभी ऐडसेंस आपको अप्रूवल दे सकता है क्योंकि 
कहा गया है Content is king...             


4rt point– copy right images का use ना करें

Google AdSense approve karane मैं इमेज का बहुत बड़ा effect होता है अगर आप सीधा गूगल से इमेज को डाउनलोड करके अपनी वेबसाइट पर लगा देते हो तो वहां कॉपीराइट माना जाता है और इस कारण से गूगल ऐडसेंस आपकी application को reject कर लेता है अगर जब भी आप कोई भी इमेज को google से डाउनलोड करोगे तो उसे एडिट जरूर कीजिए और उसका क्रेडिट देना ना भूलें फिर तभी ही अपनी पोस्ट में डालें|

Note— जब भी आप किसी post में image का प्रयोग करते हो तो उसमें आप properties and caption को डालना ना भूलिए क्योंकि यह आपके SEO के लिए महत्वपूर्ण है|


5th point– use responsive / seo friendly/mobile friendly theme


यह website के लिए very important होता है आपकी theme device / friendly seo friendly होनी चाहिए bcz 55-60%  traffic mobile से ही आता है |

•never use adult/porn images on your blog.

6th point– web error 404 not found error showing 

जब भी आप theme design करते हो तो आप उसके edit  करने में or navigation html मैं कोई error 404  आ जाता है जिससे google AdSense आपको अप्रूवल नहीं देता इसलिए आप अपने theme को डिजाइन कीजिए.

• 404 not found redirection Html code
              <script type="text/javascript">
    PNF_redirect = setTimeout(function() {
        location.pathname = "/"
    }, 400);
</script>

यदि आप किसी पोस्ट के URL को google webmaster me submitt करते हो और बाद में आप उस URL को बदल देते हो और दोबारा उसे web master tool में add kar देते हो लेकिन अब आपका पुराना वाला जो लिंक है वह google में जो होता है और जिस कारण से उसमें आपको error 404 आ जाता है|


How to fix 404 error in blogger—

अगर आप 404 error को fix करना चाहते हो तो आप ब्लॉगर में setting> Search preferences>Custom page not found मैं जाइए और आप नीचे दिए गए html code को वहां पर paste करके save कर लीजिए
    

7th point– sub mitt XML site mp

जब तक आप अपनी वेबसाइट को webmaster मैं add करके sitemap submitt नहीं कर देते तब तक आप की कोई भी पोस्ट google में show नहीं होगी इसलिए आप अपनी वेबसाइट का site map बनाकर गूगल वेबमास्टर में जरूर add करें जिससे आपकी सभी post webmaster मै easily index हो जाएंगे जिससे Google को आपकी site के बारे में पता चल जाएगा |

8th point–website traffic क्या होना चाहिए

अगर आप अपना गूगल adsense approve करना चाहते हो तो ट्रैफिक का इसमें बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान होता है जब भी आप गूगल ऐडसेंस के लिए अप्लाई करते हो तो ऐडसेंस कभी-कभी आपकी साइट को जल्द ही अप्रूवल दे देता लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि यहां 1 से 2 महीने भी लगा सकते हैं यह सब depend करता है आपके ट्रैफिक पर अगर आपका daily traffic 500+ है तो आप को AdSense का reply 1-2 day मै आ जाएगा लेकिन यदि आपका daily traffic 50-100+ है तो यहां थोड़ा time ले सकता है adsense approve होने में|


9th point– post write करते time serch description  lable, permalink, जरूर भरना चाहिए क्योंकि यहां important होता है traffic  के लिए seo के लिए भी


10th point– get Alexa rank and DA,PA

Alexa rank बहुत ही important होती है हमारी website के लिए अगर आपके पास good Alexa ranking है तो मतलब आपकी website पर traffic है 

DA:Domain Autority, PA: page authority भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है अगर आप अच्छा Alexa rank or DA,PA पाना चाहते हैं तो guest post or social shearing कीजिए जिससे आपका AdSense जल्द ही approval हो जाएगा| तो यह कुछ महत्वपूर्ण बातें जिसमें हमने आपको बताया Google AdSense account approve kaise kare अगर आप यह सब फॉलो करते हो तो जरूर आपका AdSense account approve होगा.

Conclusion––
यह थे कुछ point जिसमें हमनेे आपको बताया गूगल google AdSense account ko approval kaise karaye अगर आपको हमारा यह article पसंद आया तो please इसे social media par share जरुर करे आपका 1 share हमारी साईट को better करने में help करेगा|

Google Adsense Account Approved Kaise Kare in 2018 || Top 10 method

Black Friday or Cyber Monday Kya Hai best offers 2018 for Online shopping and deals 
Black Friday or Cyber Monday Kya Hai best offers 2018 for Online shopping and deals
hi friends! अगर आप इंटरनेट से जुड़े हुए तो आपने कभी ना कभी Black Friday or Cyber Monday के बारे में जरूर सुना होगा अगर नहीं सुना है तो आज हम इस post में आपको इन सबके बारे में बताने वाले हैं| तो सबसे पहले हम बात करेंगे आखिर Black Friday Kya hai  (what is black Friday) तो चलिए जानते हैं| और साथ साथ हम यह भी जानेंगे कि Cyber monday kya hai .

Black Friday Kya Hai :

Black Friday को Thanks giving day के 1 दिन बाद मनाया जाता है ब्लैक फ्राईडे थैंक्सगिविंग डे अमेरिका (USA) का मुख्य त्यौहार होता है इसकी शुरुआत अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति Franklin D. Roosevelt ने 1939 में की थी| ब्लैक फ्राइडे को हिंदी में काला शुक्रवार भी कहते हैं.
black Friday के दिन अगर आप online shopping या mall सेेे खरीदारी करना चाहते हो तो आपको सामान पर बहुत अधिक मात्रा में छूट disc count मिलता है Black Friday को नवंबर के चौथे शुक्रवार को मनाया जाताा है|

2018 में ब्लैक फ्राईडे 23 नवंबर को मनाया जाएगा|

Black Friday उन सभी Shopkeeper को फायदा हो जाता है जिनका पूरा वर्ष खराब गया हो इस दिन उनका सभी सामान बिक जाता है क्योंकि black Friday के दिन वह अपने सामान पर भारी मात्रा में डिस्काउंट देते हैं साथ साथ ग्राहकों को भी फायदा पहुंचता है| क्योंकि कहा जाता है कि खुशियों के त्योहार पर बजट नहींं देखा जाता😳 sach mai....
अगर हम अपने भारत (india) की बात करें तो यहां कई त्योहार festival आते हैं जिनमें हम कई बाहर शॉपिंग करते हैं लेकिन अमेरिका में मुश्किल से बहुत कम त्योहार मनाये जाते हैं जिनमें से ब्लैक फ्राईडे भी है तो आप सोच सकते हैं कि इस दिन अमेरिका में कितनी ज्यादा शॉपिंग होती होगी|

Cyber Monday Kya Hai

Black friday तो आप समझ गए होंगे हम बात करते हैं साइबर मंडे क्या है Cyber Monday में केवल online shopping करने वालों का दिन है इस दिन लोग ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं नवंबर महीने में Millions $$ का कारोबार चलता है अगर आप india की बात करे तो इंडिया में भी अब इसकी शुरुआत हो चुकी है अगर आप किसी वेबसाइट पर ऑनलाइन शॉपिंग के लिए जाते हो तो वहां आपको BLACK FRIDAY DEALS 2018 या फिर CYBER MONDAY DEALS 2018 देखने को जरूर मिलेगा|

2018 मैं साइबर मंडे 26 November में मनाया जाएगा

अगर आप भी चाहते हैं कि आप भी Black Friday or cyber Monday deals offer 2018 का फायदा उठाना चाहते हो तो मे आपको नीचे कुछ वेबसाइट की name दे रहा हूं जहां से आप ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हो…

Best Online shopping sites for blackfriday 2018

Shopping commerce site-
<Amazon
<walmart
<Flip cart
<Ajio
<Gearbist

Domain and hosting sites-
<Digital Ocean
<Host gator
<namecheaP
<Go daddy
<Big rock

तो अब आप जान गये होंगे कि "Black friday kya hai" और साथ ही हमने आपको best deals 2018 shopping sites भी बता दी हैं जहां से आप ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हो |अगर आप कुछ सुझाव देना चाहते हो तो आप नीचे कमेंट कर सकते हो… धन्यवाद

Black Friday Kya Hai Hindi me {2018 offers and deals}

uttarakhand general knowledge 2018, uttarakhand gk question in hindi, uttarakhand gk in hindi 2018, uttarakhand gk 2018 in english, uttarakhand gk in hindi pdf 2018, download uttarakhand general knowledge 2018 pdf
आज हम भारत के राज्य उत्तराखंड से संबंधित कुछ सामान्य ज्ञान uttarakhand GK के प्रश्न देने वाले हैं जैसा कि आपको पता है अगर आप कोई competitive exam दे रहे हो तो सामान्य ज्ञान किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण भाग होता है अगर आप जिस राज्य में रह रहे हो और आपको उसके बारे में पता ही ना हो तो आप उस प्रतियोगिता परीक्षा में पास नहीं हो सकते इस पोस्ट में हम आपको उत्तराखंड सामान्य ज्ञान (Uttarakhand general knowledge) से अवगत कराने वाले हैं तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए और प्रश्नों का आनंद लीजिए
uttrakhand Gk

उत्तराखंड के बारे में about uttarakhand state :
सबसे पहले जान लेते हैं उत्तराखंड राज्य के बारे उत्तराखंड राज्य भारत का 27 वां राज्य है जिसका गठन 9 नवंबर सन 2001 को हुआ इससे पहले जब यह राजा बना था तो यहां उत्तर प्रदेश राज्य के साथ संलग्न था बाद में स्कोर उत्तर प्रदेश से अलग किया गया जिसे उत्तराखंड नाम दिया गया उत्तराखंड राज्य को देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यहां देवी देवता निवास करते हैं उत्तराखंड राज्य दो मंडलों में बटाए गढ़वाल और कुमाऊं उत्तराखंड राज्य राजधानी देहरादून क्षेत्रफल की दृष्टि से देखा जाए तो देहरादून उत्तराखंड का सबसे बड़ा शहर भी है

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान uttarakhand general knowledge (UK G.K)

नीचे आपको उत्तराखंड राज्य से संबंधित सामान्य ज्ञान कुछ प्रश्न दिए गए हैं साथ साथ आपको पीडीएफ डाउनलोड भी कर सकते हो

•कोशिकी देवी का मंदिर कहाँ है-अल्मोड़ा

•अस्कोट वन्यजीव विहार कहाँ स्थित है-पिथोरागढ़

•उत्तराखंड के किस जिले मे संगमरमर पाया जाता है-देहरादून

•नेहरू पर्वतारोहण संस्थान कहां  है – उत्तरकाशी मैं

•हरिद्वार जिले में शांतिकुंज जी की स्थापना किसने की – पंडित श्रीराम शर्मा जीने

•उत्तराखंड मे कोथिग किसे कहा जाता है-मेला

•चिपको आन्दोलन के प्रणेता कौन है- सुन्दर लाल बहुगुणा

•राज्य मै दुध व दुग्ध उत्पादों को किस नाम से बेचा जाता है- ‘आंचल के ब्राण्ड नाम से’

•गढ़वाल पेंटिंग के लेखक का क्या नाम है- मुकन्दी लाल

उत्तराखंड को प्रभावित करने वाली आपदा कौन सी है-भू-स्खलन व बाढ़

उत्तराखंड का कौनसा नगर ‘लीची’ के लिये प्रसिद्ध है-देहरादून

•उत्तराखंड कि किस महिला को बैडमिन्टन कवींन के नाम से माना जाता है- मधुमिता बिष्ट

•गढंवाल पेंटिंग्स के लेखक कौन है- श्री मुकन्दी लाल

•अलकनंदा नदी का उद्गम स्थल कौन सा है- सतोपंथ

•काशी का प्राचीन नाम क्या है- बडाहट

•उत्तराखंड मे काँचुला खरक है-कस्तूरी मृग प्रजनन व संरक्षण केन्द्र

स्कन्द पुराण में गढवाल के लिए प्रयुक्त क्या नाम है- केदारखण्ड

चिपको आंदोलन का नेतृत्व किसने किया – श्रीमती गोरा देवी ने

ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त करने वाले कवि का नाम –सुमित्रानंदन पंत

सबसे पहले विक्टोरिया क्रॉस पदक विजेता सैनिक का नाम  – दरबान सिंह नेगी

उत्तराखंड में ई डिस्ट्रिक्ट योजना कब शुरू की गई – 2009 से

उत्तराखंड मे काँचुला खरक है – कस्तूरी मृग प्रजनन व संरक्षण केन्द्र

भारत का प्रथम रास्टीय पार्क कौन सा है- जिम कार्बेट

शंकराचार्य के हिन्दू धर्म की पुनस्थापना किस स्थान पर की थी-बद्रीनाथ

उत्तराखंड के प्रथम व्यक्ति का क्या नाम है जो कि एवरेस्ट पर चढ़े थे-हरीशचंद्र सिंह रावत(29 मई 1967)

केदारनाथ से रुद्रप्रयाग तक बहने वाली नदी कौन सी है-मंदाकिनी

गंगाद्वार के नाम से किस शहर को जाना जाता है-हरिद्वार

कोटेश्वर बांध का निर्माण किस नदी पर किया गया है-भागीरथी नदी

उत्तराखण्ड राज्य का प्रथम राज्यपाल कौन था-सुरजीत सिंह बरनाला

राज्य की उत्तर से दक्षिण बिन्दु (चौड़ाई) की दूरी कितनी है- 320 किमी.

उत्तराखण्ड में विधानसभा सीटों की संख्या कितने है -70 सीटें

कैलाश मानसरोवर में सबसे कम दूरी पर स्थित आश्रम कौन-सा है-नारायण आश्रम

उत्तराखण्ड राज्य का राजकीय वृक्ष कौन-सा है -बुरांश

उत्तराखण्ड राज्य से कितने सदस्य राज्य सभा के लिए चुने जाते है - 3 सदस्य

घाघरा नदी का उद्गम स्थल कौन सा है-चुंगु हिमनद

उत्तराखंड का राज्य पक्षी कौन सा है- मोनाल

उत्तराखंड के प्रथम राज्यपाल का क्या नाम है-सुरजीत सिंह बाला

कुमाऊँ साहित्य के पहले कवि कौन है- पं. गुमानी पंत

हजरत अलाऊद्धीन अहमद साबिर की दरगाँह कहाँ स्थित है- पिराने कलियर ( रुढ़की )

किस पुराण मे केदारखण्ड तथा मानव खण्ड का वर्णन किया गया है- स्कन्ध पुराण

इचारी बांध परियोजना का निर्माण किस नदी पर हुआ है- टोंस नदी(2008-2009)

उत्तराखंड मे बाघेा की कितनी संख्या है- 178

उत्तराखंड के निर्धन व पिछड़ेपन का दायित्व स्वीकार करने वाले प्रथम राजनेता थे-श्रीमती इिन्द्ररा गाँधी

उत्तराखंड मे सर्वाधिक ऊँचाई पर स्थित मंदिर का क्या नाम है-तुंगनाथ (रुद्रप्रयाग)

महात्मा गाँधी ने किसे मिनी स्वीटजरलैंड कहकर पुकारा- अल्मोड़ा(कोसानी)

उत्तराखंड की साक्षरता दर कितनी है-63%

उत्तराखंड के प्रथम लोक आयुक्त क्या नाम है-न्यायमूर्ति

एस. एच. ए. राजादेश के किस राज्य मे पहली डीजीपी महिला कौन थी- कंचन चौधरी

भट्टाचार्यकार्बेट नेशनल पार्क की स्थापना कब हुई थी- 1935 ई. में

वशिष्ट गुफा कहाँ स्थित है-टिहरी

उत्तराखंड मे वह स्थान जहा “नेनी सेनी हवाई अड्डा” स्थित है- पिथोरागढ़

सरला बहन का मूल नाम क्या था- केथरीन हेलीमन

उत्तराखण्ड राज्य की राजधानी है ?- देहरादून

स्कन्द पुराण में गढ़वाल को किस नाम से जाना जाता था -केदारखण्ड

उत्तराखण्ड राज्य का राजकीय पशु है -कस्तुरी मृग

उत्तराखण्ड देश का कौन-सा राज्य है - 27 वॉं

उत्तराखंड में “हेमकुण्ड झील” कितने शिखरों से घिरी हुई है -सात हिमाच्छादित शिखरों से

उत्तराखण्ड राज्य का आकार कैसा है-आयताकार

गढ़वाल पेन्टिंग्स” पुस्तक के लेखक कौन है -मुकुन्दी लाल

उत्तराखण्ड राज्य के पश्चिम में कौन-सा राज्य नही है - जम्मू व कश्मीर

उत्तराखण्ड राज्य की स्थापना कब हुई थी - 9 नवम्बर, 2000 को

उत्तराखंड राज्य में “भकार” का उपयोग होता है -खाद्यान्न संग्रह के लिए

उत्तराखंड राज्य में किसे तालों का प्रदेश कहा जाता है - नैनीताल

उत्तराखण्ड राज्य में तहसीलों की संख्या कितनी है -78

राज्य का राजकीय पुष्प है -ब्रह्म कमल

उत्तराखण्ड उत्तरी दिशा में कौन-सा देश है -चीन

उत्तराखण्ड राज्य का उच्च न्यायालय कहॉं पर है - नैनीताल

उत्तराखण्ड राज्य से लोकसभा के लिए कितने सदस्य चुने जाते है - 5 सदस्य

%%Uttarakhand samanya gyan PDF here%%

Conclusion-
आशा करता हूं दोस्तों आपको यह पोस्ट पसंद आई हो जिसमे हमने आपको बताया uttarakhand gk से संबंधित प्रश्न जिन्हें पढ़कर आप अपना ज्ञान और बढ़ा सकते हो| 

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान uttarakhand Gk के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर 2018

IAS officer kaise bane, IAS officer ka kaam kya hota hai, IAS Kaise Bane In Hindi, IAS Officer Kaise Bane Jankari Hindi Me.
News4blog कि इस पोस्ट में आज हम आपको बताएंगे कि IAS officer kaise bane और साथ ही यह भी बताएंगेे कि IAS officer बनने के लिए क्या-क्या काम करना पड़ता है एक IAS officer ka kaam kya hota hai यह सब जानकारी हम आपको details मैंं बताने वाले हैं|
IAS Officer क्या होता है ? IAS kaise bane - आईएएस ऑफिसर का काम क्या होता है
IAS बनने के लिए आपको अपना पूरा focus पढ़ाई पर करना होगा अगर आप अपनी पढ़ाई के साथ-साथ आईएएस की तैयारी करते हो तो आप ग्रेजुएशन तक IAS की परीक्षा देने के काबिल हो जाओगे|IAS की परीक्षा की तैयारी आप 1 साल के अंदर अंदर कर सकते हो अगर आप में इसके प्रति लगन है तो आप इसे 6 महीने में भी अपनी IAS ki taiyari को पूरा कर लेंगे चलिए

Read also- Upsc kya hai puri jankari hindi me
Read also- SSC क्या होता है SSC की तैयारी पूरी जानकारी जानिए हिंदी में 

IAS kya hai आईएएस क्या है -

आईएएस परीक्षा हमारे देश की एक बहुत ही tough परीक्षा होती है जो यूपीएससी UPSC संचालित करता है UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) सिविल परीक्षा IAS, IPS, NDA जैसे 24 पदों के लिए परीक्षा आयोजित करती है अगर आप यूपीएससी के बारे में नहीं जानते तो यहां से पढ़िए यूपीएससी (UPSC) क्या है 


IAS Officer Kaise Bane आईएएस ऑफिसर कैसे बने :

IAS officer बनने के लिए सबसे पहले आपको अपना mind setup करना होगा कि मुझे आई ए एस बनने के लिए दिन-रात पढ़ाई करनी है क्योंकि IAS बनना इतना आसान भी नहीं होता इसमें कितनी सच्चाई है यह केवल IAS ऑफिसर ही बता सकता है|
IAS officer बनने के लिए अगर आप simple पढ़ाई भी करते हो जिसमें आप उत्तीर्ण हो जाओ फिर भी आप आईएएस ऑफिसर बन सकते हो| इसके लिए आपको रात दिन एक करने की जरूरत नहीं अगर आप ज्यादा पढ़ाई भी करते हो तो ज्ञान आपका ही बढ़ेगा| IAS बनने के लिए पढ़ाई ही आप का मजबूत पक्ष होती है जिसे कारण आप आईएएस ऑफिसर की पद के लिए नियुक्त हो सकती हो|

IAS ki Full Form kya hai -

आईएएस की फुल फॉर्म होती है भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service)..


IAS officer का क्या कार्य होता है

IAS अधिकारी का काम होता है कि संसद में बनने वाले कानूनों को अपने मोहल्ले शहर में लागू करवाना एवं नए नए कानूनों को बनाने में अपना पूर्ण योगदान देना|

IAS के लिए योग्यता  (आईएएस योग्यता)

IAS की परीक्षा को देने के लिए आपका ग्रेजुएशन complete होना आवश्यक है अगर आप अपने graduation के अंतिम वर्ष में है तो आप आईएएस की परीक्षा दे सकते हो
UPSC की परीक्षा के आवेदन के लिए आपके पास न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की डिग्री होनी जरूरी है तभी आप इसमें participate कर सकते हो|

IAS बनने के लिए आयु सीमा (Age for IAS)

•आईएएस बनने के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष से रखी गई है
•सामान्य general जाति के लिए इसकी आयु 32 वर्ष रखी गई है जिसमें आप 6 बार आईएएस की परीक्षा दे सकते हो
•OBC वालों के लिए 35 वर्ष जिसने आप 9 बार आईएएस की परीक्षा दे सकते हो|
•SC ST के उम्मीदवारों के लिए 37 वर्ष रखी गई है जिसमें आप अपने वर्ष पूरे होने तक आईएएस की परीक्षा दे सकते हो|

IAS का पाठ्यक्रम (Syllabus of IAS)

UPSC द्वारा संचालित होने वाली परीक्षाओं में आपको क्वालीफाई के रूप में दो प्रश्नपत्र 200-200 अंको के पूछे जाएंगे जोकि ऑब्जेक्टिव type के होंगे.

पहले प्रश्न पत्र में आपको 2-2 अंको की प्रश्न पूछे जाएंगे जो कि सामान्य ज्ञान से संबंधित होंगे और दूसरे प्रश्न पत्र में आपको 2.5-2.5 अंको की 80 प्रश्न पूछे जाएंगे जो CSAT (Civil Services Aptitude Test) से संबंधित होगी और दोनों प्रश्न पत्रों में minus marking भी होती है|

Conclusion----
आशा करता हूं कि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो इसमें हमने बताया कि IAS की तैयारी कैसे करें साथ साथ हमने यह भी जाना IAS officer kaise bane.

अगर आपको इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हो.


IAS Officer क्या होता है ? IAS kaise bane - आईएएस ऑफिसर का काम क्या होता है

हेलो फ्रेंड्स News4Blog मैं आपका बहुत बहुत स्वागत है आज हम आपको उत्तराखंड राज्य में एक जिला टिहरी गढ़वाल का इतिहास (History of tehri garhwal)
के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में देने वाले हैं टिहरी के इतिहास के बारे में जानने के लिए इस पोस्ट को पहले से लास्ट तक पढ़िए|
History Of Tehri Garhwal  {टिहरी गढ़वाल का इतिहास}
History Of Tehri Garhwal  {टिहरी गढ़वाल का इतिहास}
Tehri district उत्तराखंड राज्य का एक बहुत ही चर्चित जिला है जो गढ़वाल मंडल में स्थित है , टिहरी शब्द 'त्रिहरी' शब्द से बना है जिसका अर्थ है तीनों पापों (मनसा, वाचसा , कर्मणा) को मिटाना|
पर्वत और नदियों से घिरा यह जिला मन को मोहित करने का काम करता है जिसके आकर्षण से यहां प्रतिवर्ष कई सैलानी tourist पर्यटक यहां घूमने आते हैं क्योंकि यहां की प्राकृतिक सुंदरता हर किसी को यहां आने के लिए विवश कर देती है, चलिए अब जान लेते हैं टिहरी गढ़वाल के इतिहास के बारे में (tehri garhwal history)

टिहरी गढ़वाल का इतिहास - history of tehri garhwal

टिहरी के इतिहास के बारे में बात करें तो 1888 से पूर्व गढ़वाल क्षेत्र छोटे-छोटे गढ़ो में विभक्त था जिसमें प्रत्येक गढ़ में अलग अलग राजा राज्य करते थे जिन्हें ठाकुर, राणा, राय के नाम से जाना जाता था पुरातन तथ्यों के आधार पर यह भी कहा जाता है,
मालवा के राजकुमार कनकपाल जब बद्रीनाथ धाम के दर्शन के लिए गए तो उनकी मुलाकात एक पराक्रमी राजा भानु प्रताप के साथ हुई और राजा कनक पाल ने भानु प्रताप को अपने पराक्रम से मोहित कर लिया जिससे राजा कनक पाल ने अपनी बेटी का विवाह मालवा के राजा कनकपाल के साथ करवा दिया, और अपना सारा राज्य कनक पाल को दान दे दिया धीरे-धीरे करके कनक पाल और उनकी आने वाली पीढ़ी ने सारे गढ़वाल क्षेत्र को अपने कब्जे में कर लिया 1803 में पूरा गढ़वाल क्षेत्र कनक पाल की पीढ़ी के कब्जे में आ गया|

यह देखकर गोरखाओ ने गढ़वाल पर आक्रमण करनेे की कोशिश की पर वह नाकाम रहे 1803 के अंतिम चरण में  गोरखा ने देहरादून पर अपना कब्जा कर लिया जिस युद्ध में राजा प्रद्युमन शाह की मृत्यु हो गई| धीरे-धीरे गोरखाओं ने पूरेेेे गढ़वाल क्षेत्र मैं कब्जा कर लिया जो कि कांगड़ा तक फैला हुआ था गोरखाओं मैं लगभग 12 साल तक यहां राज्य किया और बाद में महाराजा रणजीतसिंह सिंह ने गोरखाओं को कांगड़ा से बाहर निकाल फेंका|
बाद में प्रदुमनशाह के बेटे सुदर्शनशाह(जो सैनिकों को द्वारा युद्ध में बचाए गए थे) ने ईस्ट इंडिया कंपनी की मदद से गोरखा से अपना राज्य पुनः वापस ले लिया|

इस तरह राजा सुदर्शनशाह ने अपनी राजधानी टिहरी(Tehri)  को बनाया बाद में उनके उत्तराधिकारी प्रताप शाह, कीर्ति शाह, नरेंद्र शाह ने इस राज्य की राजधानी अपने अपने नाम  प्रताप नगर, कीर्ति नगर, नरेंद्र नगर रखा |
इन तीनों राजाओं ने 1815 से लेकर 1949 तक राज्य किया आजादी के बाद लोगों ने राजशासन से मुक्त होना सही समझा महाराजाओं के लिए भी अब राज्य करना मुश्किल हो गया था तो यहां के अंतिम राजा 60वें मानवेंद्र शाह ने भारत के साथ एकजुट होकर राज्य से इस्तीफा दे दिया| जिससे राज शासन का अंत हो गया|
इसी तरह टिहरी राज्य को उत्तर प्रदेश के साथ मिलाकर इसे उसी के नाम से एक जिला बना दिया गया और इसी तरह 24 फरवरी 1949 को उत्तर प्रदेश सरकार ने tehri की एक तहसील को अलग कर उत्तरकाशी जिला बनवा लिया|

आशा करता हूं कि आपको टिहरी गढ़वाल का इतिहास (history of tehri garhwal) पढ़ कर मजा आया होगा और आपको इससे कुछ सीखने को भी मिला होगा अगर आपको यह पोस्ट tehri garhwal का इतिहास पसंद आई हो तो आप इसे social media or अपने friends  के साथ शेयर करना ना भूले Thanks You :)

History Of Tehri Garhwal {टिहरी गढ़वाल का इतिहास}